अनेकता में एकता

अनेकता में एकता कायम रखने वाली भाषा है हिन्दी


जिले समेत प्रदेश में हिन्दी साहित्यकार और सरगुजिहा भाषा में काव्य रचनाओं के सृजन करने वाले शहर के धौराटिकरा निवासी भोला प्रसाद मिश्रा अनाम से हिन्दी दिवस को लेकर हरिभूमि ने चर्चा की। इस दौरान श्री मिश्रा ने कहा कि हिन्दी हमारी मातृभाषा तो है ही, साथ ही एकता कायम रखने वाली भाषा है। उन्होंने कहा कि हिन्दी देश में सबसे अधिक बोली जाती है। अपनी बातों और भावनाओं को बड़े ही आसान तरीके से अभिव्यक्त करने का साधन है। आज हमें अधिक से अधिक हिन्दी भाषा का ही उपयोग करना चाहिए।


हिन्दी दिवस पर कार्यशाला आज


हिन्दी दिवस के अवसर पर 14 सितंबर को वनमाली सूजन केन्द्र कोरिया के मार्गदर्शन में एक दिवसीय हिन्दी भाषा पर कार्यशाला एवं गोष्ठी का आयोजन आईसेक्ट संस्थान तलवापारा बैकुंठपुर में किया गया है। आईसेक्ट के जिला प्रबंधक नरेश सोनी ने जानकारी देते हुए बताया कि कार्यक्रम 11 बजे से आयोजित होगी, जिसके प्रथम चरण में हिन्दी भाषा, वर्तनी, उल्लेखनीय एवं संवाद पर कार्यशाला 11 से 1 बजे तक आयोजित होंगे। वहीं द्वितीय चरण में जिले के कवियों की उपस्थिति में कवि गोष्ठी का आयोजन दोपहर 1:30 से 3:30 बजे तक आयोजित होंगे।