वाजपेयी ने खद पैसे देकर खरीदा था दिल्ली मेट्रो का पहला स्मार्ट कार्ड।

नई दिल्ली। दिल्ली समेत एनसीआर की लाइफलाइन दिल्ली मेट्रो से पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का गहरा रिश्ता रहा है। वर्ष 2002 में दिल्ली मेट्रो की रेड लाइन पर शाहदरा से तीस हजारी के बीच 8.5 किलोमीटर लंबे ट्रैक पर मेट्रो को वाजपेयी ने हरी झंडी दिखाकर रवाना किया था। केंद्र में बीजेपी सत्ता में थी और अटल बिहारी वाजपेयी प्रधानमंत्री। उन्होंने देश की राजधानी के लिए दिल्ली मेट्रो के। लिए न सिर्फ आर्थिक रूप से मदद की, बल्कि उसे एनसीआर से जोड़ने का भी प्रस्ताव दिया था। वाजपेयी ने ही कश्मीरी गेट मेट्रो स्टेशन पर दिल्ली मेट्रो का पहला स्मार्ट कार्ड खुद पैसे देकर खरीदा और फिर उद्घाटन के बाद मेट्रो में सफर भी किया था। खास बात मेट्रो में सफर का ट्रेड शुरू किया यह थी कि प्रधानमंत्री और और आज भी जारी है। उन्हीं के कार्यक्रम के मुख्य अतिथि होने के नक्शेकदमों पर प्रधानमंत्री नरेंद्र बाद भी उन्होंने स्वयं टिकट मोदी भी मेट्रो में सफर करते हैं खिड़की पर आम यात्री की तरह और अपने पैसों से लाइन में लाइन में लगकर स्मार्ट कार्ड लगकर आम यात्री की तरह स्मार्ट खरीदा था। वाजपेयी ने ही दिल्ली कार्ड खरीदते हैं।